सुरत पियाकी न्‌ छिन्‌,Surat Piyaki Na Chin

सुरत पियाकी न्‌ छिन्‌ बिसुराये
हर हरदम उनकी याँद आये

नैंनन और न को समाये
तरपत हूँ बिलखत रैन निभायें
अखियाँ निर असुवन झर लाये

साजन बिन मोहे कछुना सुहावे
बिगरी को मेरे कौना बनावे
हसनरंग असु जी बहलावे