विमल अधर निकटि,Vimal Adhar Nikati

विमल अधर निकटि मोह हा पापी । वदन-सुमन-गंध लोपी ॥

धवला ज्योत्स्ना राहुसि अर्पी सुखद सुधाकर ॥