सप्त सूर झंकारित बोले,Sapt Sur Jhankarit Bole

सप्त सूर झंकारित बोले गिरिजेची वीणा
'जय परमेश्वर, गौरीशंकर, जय गौरी-रमणा' ॥

भक्तिरसाची निर्मळ गंगा
वदे खळखळा धवल-तरंगा-
जय गंगाधर ! गिरिजा-रंगा !
जय मंगल-सदना ॥

शंकर-डमरू डम बोले-
शिव-रंजनि ! गिरिबाले !
चरणी तव नत झाले;
सुरवर करिति तव भजना ॥