लागी कलेजवाँ कटार,Lagi Kalejava Katar

लागी कलेजवाँ कटार ।
सावरियाँसे नयना हो गये चार ।
हाय राम ॥

बूँद ना गिरा एक लहू का
कछूँ ना रही निसानी
मन घायल पर तन पे छायी
मिठी टीस सुहानी
सखी री मैं तो सुद्ध-बुद्ध बैठी बिसार ॥

प्रीत की रीत सखी ना जानू
जीत हुई या हार ना मानू
जियरा करे इकरार अब मोर ॥