Ghei Mam Vachan He,घेईं मम वचन हें

घेईं मम वचन हें सुगुणमणिमंजिरी ॥

साच तुज वरिन मी भंगुनिहि मन्नियम ।
साक्षि अरुणाक्षि, तो विश्वसाक्षी करी ॥