कोपलास कां दया सागरा,Koplas Ka Daya Sagara

कोपलास कां दया सागरा, का झाला अन्यायीं

रडवितोस कां तुझ्या लेकुरा, जगती ठायीं ठायीं



का तव माया ममता सरली

कृपा तुझी का ओसरली ?

म्हणूनच का रे दैव कसाई काळिज तोडुन खाई